सीरिया में चरमपंथियों की कामयाबी से सारे लेबनानियों का सफ़ाया हो जाता

16-हिंदी (Hindi)

लेबनान के जनप्रतिरोध आंदोलन हिज़्बुल्लाह के महासचिव सय्यद हसन नसरुल्लाह ने कहा है कि यदि प्रतिरोध के जवान सीरिया युद्ध में शामिल न होते तो तकफ़ीरी मिलिटेंट्स सारे लेबनानियों का सफ़ाया कर देते।

सय्यद हसन नसरुल्लाह ने शनिवार को टेलीविजन पर अपने भाषण में कहा, “यदि तकफ़ीरी आतंकवादी सीरिया में विजयी हो जाते तो केवल पार्टी या प्रतिरोध नहीं बल्कि हम सब का सफ़ाया हो जाता।” उन्होंने कहा कि हिज़्बुल्लाह डेढ़ साल पहले सीरिया युद्ध में तब शामिल हुआ जब चरमपंथी मिलिटेंट्स पैग़म्बरे इस्लाम की नवासी हज़रत ज़ैनब के रौज़े से कुछ मीटर दूर थे।

सैयद हसन नसरुल्लाह ने कहा कि हज़रत ज़ैनब के रौज़े पर पूरे विश्व के शीया और सुन्नी संप्रदाय के लोग श्रद्धा-सुमन अर्पित करते हैं। उन्होंने बताया कि जब सीरिया में युद्ध शुरु हुआ तो हिज़्बुल्लाह ने गतिरोध को ख़त्म करने के लिए राजनैतिक वार्ता का समर्थन किया किन्तु ऐसा इसलिए नहीं हो पाया क्योंकि अरब लीग ने सैन्य विकल्प को प्राथमिकता दी।

हिज़्बुल्लाह के महासचिव ने कहा कि सीरियाई सरकार को गिराने के लिए कुछ अरब देशों ने आतंकवादियों की पैसों और हथियारों से मदद की किन्तु तीन वर्षों के बाद अरब लीग के कुछ सदस्य देश इस डर से कि सीरिया में युद्ध की समाप्ति के बाद ये मिलिटेंट्स इन देशों का विनाश कर देंगे, कुछ मिलिटेंट्स को ब्लैक लिस्ट में डाल रहे हैं । (MAQ/N)

http://hindi.irib.ir/%E0%A4%B8%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%9A%E0%A4%BE%E0%A4%B0/%E0%A4%B8%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%9A%E0%A4%BE%E0%A4%B0/item/58827-%E0%A4%B8%E0%A5%80%E0%A4%B0%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%BE-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%9A%E0%A4%B0%E0%A4%AE%E0%A4%AA%E0%A4%82%E0%A4%A5%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A5%8B%E0%A4%82-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A4%BE%E0%A4%AE%E0%A4%AF%E0%A4%BE%E0%A4%AC%E0%A5%80-%E0%A4%B8%E0%A5%87-%E0%A4%B8%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A5%87-%E0%A4%B2%E0%A5%87%E0%A4%AC%E0%A4%A8%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A5%8B%E0%A4%82-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%B8%E0%A4%AB%E0%A4%BC%E0%A4%BE%E0%A4%AF%E0%A4%BE-%E0%A4%B9%E0%A5%8B-%E0%A4%9C%E0%A4%BE%E0%A4%A4%E0%A4%BE

Write a comment

Comments: 0