अमरीका और इस्राईल ने यूरोपीय संघ पर थोपा है निर्णय

21- हिंदी (Hindi)

लेबनान के प्रतिरोधी आंदोलन हिज़्बुल्लाह के महासचिव ने संगठन की सैन्य शाख़ा को आतंकवादी गुटों की सूची में शामिल करने के यूरोपीय संघ के निर्णय की निंदा की है।

बुधवार को टीवी पर प्रसारण किए गए भाषण में सैय्यद हसन नसरुल्लाह ने कहा कि यूरोपीय संघ ने इस्राईल और अमरीका के दबाव में यह कायरतापूर्ण निर्णय लिया है।

हसन नसरुल्लाह ने कहा कि संघ द्वारा यह निर्णय केवल इस्राईल के हितों की रक्षा के लिए लिया गया है तथा भविष्य में लेबनान पर ज़ायोनी शासन के किसी आक्रमण की स्थिति में यूरोपयी संघ को इस अतिग्रहणकारी के साथ खड़ा कर देगा।

हिज़्बुल्लाह के महासचिव ने उल्लेख किया कि इन देशों को यह समझना होगा कि वे लेबनान पर हमले के लिए इस्राईल को क़ानूनी शरण प्रदान कर रहे हैं, इस लिए कि अब ज़ायोनी शासन यह दावा कर सकता है कि वह आतंकवादियों से लड़ रहा है और आतंकवादी ठिकानों को निशाना बना रहा है।

नसरुल्लाह ने कहा कि यद्यपि इस प्रकार के निर्णयों से प्रतिरोधी आंदोलन के लड़ाकों का मनोबल प्रभावित नहीं होता है। s.m

http://hindi.irib.ir/2010-06-06-08-13-27/item/45329-%E0%A4%85%E0%A4%AE%E0%A4%B0%E0%A5%80%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%94%E0%A4%B0-%E0%A4%87%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%88%E0%A4%B2-%E0%A4%A8%E0%A5%87-%E0%A4%AF%E0%A5%82%E0%A4%B0%E0%A5%8B%E0%A4%AA%E0%A5%80%E0%A4%AF-%E0%A4%B8%E0%A4%82%E0%A4%98-%E0%A4%AA%E0%A4%B0-%E0%A4%A5%E0%A5%8B%E0%A4%AA%E0%A4%BE-%E0%A4%B9%E0%A5%88-%E0%A4%A8%E0%A4%BF%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%A3%E0%A4%AF

Write a comment

Comments: 0